TOP 3 Inspirational stories in Hindi for Students

Inspirational stories in Hindi for students | Jabardast Kahani

 तो दोस्तों कैसे है आप सब उम्मीद है की ठीक ही होगा। आज हम TOP 3 Inspirational stories in Hindi for Students में अपने दोस्तों के लिए बहुत ही अच्छी कहानी लाया हूँ। 
अगर सच खाऊ तो यह कहानी लिखने के प्रेणा मुझे बच्चो के टीवी शो से मिली है हलाकि यह कहानी को मैंने थोड़ा सा दूसरा चित्र हे बस दिया है। 
लेकिन फिर भी यह कहानी आप लोगो को बहुत पसंद आएगी हमेशा की तरह मुझे पूरा विश्वास है इस बात पर। 
तो चालिए बिना आपका वक़्त खरब किये मैं कहानी की आउटलाइन पर आता हूँ ।
पहली कहानी एक मेहनती लड़के की हैं दूसरी कहानी कछुए के बारे में हैं और तीसरी कहानी एक अपाहिज लड़के की हैं जिसके गुरु ने केवल एक कला सिखाई
तो चालिए नज़र डालते हैं आज की कहानियों पर…

Real-life Inspirational Stories in Hindi

सोभाग्य 

inspirational- stories-hindi-students
Inspirational stories in Hindi for Students

घर में बाबा बीमार थे । उनकी दवाई, राशन के लिए वड़ा – पाव और चाय ले आ फिर हिसाब कर । ” बबलू सिर झुकाए खड़ा रहा । दुकानदार बार – बार बोलता रहा पर बबलू टस – से – मसन हुआ । अब दुकानदार से रहा नहीं पैसे चाहिए थे ।

 माँ चार घर में चौका – बर्तन करके जितना लाती वह सब बाबा की दवाई और घर में ही लग जाता । बबलू की पढ़ाई बीच में ही छूट गई । माँ को सहारा देने के लिए बबलू ने घर – घर जाकर रद्दी इकट्ठा करना शुरू कर दिया पर पढ़ाई के प्रति लालसा बनी हुई थी ।

 उस दिन भी तराजू पर रद्दी तौलते हुए बबलू की नजर लगातार स्कूल की उन किताबों पर थी जिसे रद्दी में बेचा जा रहा था । वह चाह रहा था कि वे किताबें उसे मिल जाएँ । ” स्कूल नहीं जाता तू ? अजीब हैं तेरे माँ – बाप जो तुझसे काम कराते हैं । घर की मालकिन ने तराजू के काँटे पर नजर जमाए कहा । तभी उनकी कॉलेज के लिए तैयार होती लड़की ने कहा –

” माँ लेकिन बच्चों से मजदूरी कराना तो सही नहीं है और हां हमे कॉलेज मैं बताया जाता है की ये अप्राद हैं, तो फिर? ” 

”हाँ बिल्कुल सही कहा तुमने बेटी, लेकिन तुम्हारे समझने से क्या होगा अनपढ़ मां – बाप समझें तब न “, 

बबलू को बहुत बुरा लगा । उससे अपने माता-पिता के लिए ऐसे अपशब्द सहे नहीं गए । और इसने कहा की, ” 

स्कूल बाप ने भेजा था मेमसाब, पर उनके पास किताबों के लिए पैसे न थे इसलिए पढ़ाई रुक गई । “

” माँ हम एक काम करते हैं की, इससे इन किताबों के पैसे नहीं लेते हैं इससे इसकी मदद हो जाएगी। इसके काम आएंगी । वह इनसे अपनी पढ़ाई कर लेगा । ” उसकी माँ ने जननकार कहा की, 

” कुछ नहीं होता इनपर दया दिखाने से, हम फ्री में देंगे और यह रद्दी पेपर के मालिक से किताबों के पैसे ले चाट – पकौड़ी में उड़ा देगा । इनके बस का नहीं है पढ़ना । “

‘ बबलू ने रद्दी के पैसे चुकाए और बोरा उठा सीधा घर पहुँचा । उसने बोरे में से किताबें निकालकर अलग रख दी । फिर बोरा लेकर वह रद्दी पेपर के दुकानदार के पास पहुंचा । दुकानदार ने रद्दी तौल किनारे रखी । ” पैसे तो बचे होंगे तेरे पास । जा , सामने के ठेले से पर गा । वह झल्ला उठा ।

को देखकर उसने निश्चय किया कि अब उसकी आगे की पढ़ाई का खर्चा वही उठाएगी । बबलू की खुशी का ठिकाना ककाट लिए तैयार अपराध है

( आ ) ” अरे क्या हुआ ? जाता क्यों नहीं ? “

 ” रुपये खर्च हो गए सेठ ।” 

 “ क्या ! तेरे पैसे थे जो खर्च कर दिए ! दुकानदार को बड़ा गुस्सा आया उसने बबलू को उसका काम अच्छी तरह न करने के वजह से बोहोत डाँट दिया ।

 डाँट खाने के बावजूद वह मुस्कुरा रहा था । अब वह स्कूल जा सकेगा । उसके पास भी और यह रद्दी किताबें हैं । वह घर की ओर लौट पड़ा । -पकौड़ी में उड़ा घर लौटते हुए रास्ते में वही सुबहवाली मालकिन और उनकी लड़की मिल गई ।

उसके हाथ में किताबें देख रा उठा सीधा घर अलग रख दीं । मालकिन के आश्चर्य का ठिकाना न रह ) ।

 उसे सुबह कहे कानदार के पास ( हुए अपने ही अपशब्द याद आ गए और अपने ही शब्दों पर बी । अपराध बोध हो आया ) । बबलू की पढ़ाई के प्रति लालसा सामने के ठेले से कर । 



Motivational Stories in Hindi for Students 


धोखा

inspirational- stories-hindi-students
Inspirational stories in Hindi for Students

कछुओं के एक परिवार ने पिकनिक पर जाने का सोचा| कछुए क्योंकि कुदरतन धीरे होते हैं, उन्हें इसकी तैयारी करने में सात साल लग गए| आखिरकार, कछुआ परिवार निकला पिकनिक के लिए कोई उचित स्थान देखने| अपने सफ़र के दुसरे साल में आखिर उन्हें अपनी पसंद की जगह मिल गई|

 छः महीनों तक उन्होंने वो जगह साफ़ की, पिकनिक वाली टोकरी खोली और देखा तो पाया वो नमक भूल आए हैं।

 नमक के बिना पिकनिक तो बेकार है, सबने यही माना| चार महीनों के लम्बे विचार के बाद, एक कछुए को घर से नमक लाने के लिए चुना गया क्योंकि वो धीरे चलने वाले कछुओं में सब से तेज़ था| उस कछुए ने एक शर्त पर जाने को हाँ कहा;

कि जब तक वह लौट कर नहीं आएगा कोई कुछ नहीं खाएगा| परिवार मान गया और कछुआ चला गया| तीन साल बीत गए पर कछुआ लौट कर नहीं आया|

पांच सालछः सालसात सालफिर सातवे साल भी जब वो नहीं आया तो सबसे बड़ा कछुआ अपनी भूख काबू में और नहीं रख सका| उसने घोषणा की कि वो खाने वाला है और एक सैंडविच खोलने लगा|

 तभी जो कछुआ घर के लिए निकला था लपक के पेड़ के पीछे से निकला और चिल्लाया,

देखो, मुझे पता था आप लोग इंतज़ार नहीं करोगे| अब मैं नहीं जाऊंगा नमक लाने ।

अगर आप अपना वादा या कहीं गई हुई बात नहीं हकीकत में नहीं कर के दिखा सकते तो कृपया किसी को झूठी दिलासा ना दे।

Inspirational Story in the Hindi Language

कमजोरी या ताकत?


inspirational- stories-hindi-students
Inspirational stories in Hindi for Students

कभी-कभी हमारी सबसे बड़ी कमज़ोरी हमारी सबसे बड़ी ताकत बन जाती है। जैसे, उदाहरण के लिए, 10 साल के बच्चे की कहानी जिसने जुडो सीखने का फैसला किया जबकि एक दुखद

कार दुर्घटना में वो अपना बायां हाथ खो चुका था|

लड़के ने एक बुजुर्ग जापानी जुडो मास्टर से जादू सीखना शुरू किया| लड़का अच्छा कर रहा था इसलिए वह समझ नहीं पाया क्यों तीन महीने गुज़र जाने तक भी मास्टर ने उसको केवल एक ही दाव सिखाया था|

मास्टर,” एक दिन उसने कहा, “क्या मुझे और दाव नहीं सीखने चाहिए?”

”तुम्हे केवल एक ही दाव आता है, मगर यह एक ही दाव है जो तुम्हे सीखने की ज़रूरत पड़ेगी,” उन्होंने कहा।

लड़का समझ नहीं पाया मगर अपने टीचर पर विश्वास रख कर, उसने ट्रेनिंग जारी रखी|

कई महीनों बाद, मात्र से उसके पहले टूर्नामेंट के लिए लैंकर लडका हैरान रह गया जब उसने पहले दो मैच आसानी से वि तीसरा मैच मुश्किल था, मगर कुछ समय बाद उसका विरोधी अपना संयम खोने लगा और उसने हमला कर दिया;

लड़के ने अपना इकलौता दाव खला और मैच जीत गया अभी अपनी जीत से हैरान, लड़का फाइनल में आ गया था। इस बार उसका विरोधी कई बड़े, शक्तिशाली, और अधिक तजुर्बेकार था।

एक बार को लगा उसे गलत विरोधी मिल गया है। ये सोचकर कि लड़के के लग जाएगी, रेफरी ने टाइम आउट की घोषणा कर दी| वो मैच रोकने वाला था जब मास्टर ने उसे रोका नहीं,” उन्होंने कहा,

“उसे लड़ने दो”

जैसे ही मैच शुरू हुआ, विरोधी ने एक भूल कर दी: उसने अपने बचाव के बारे में नहीं सोचा। तुरंत लड़के ने अपने दाव से उसे दबोच लिया। लड़के ने वो मैच और टूर्नामेंट दोनों जीत लिए थे|

वापसी के रास्ते में लड़के और मास्टर ने हर मैच के हर दाव पर चर्चा की। तब लड़के ने हिम्मत कर पूछ ही लिया जो उसके मन में चल रहा था। ‘मास्टर, में कैसे केवल एक दवा से पूरा टूर्नामेट जीत गया?

“तुम दो कारणों से जीते, “मास्टर ने बताया “पहले तुम जुडो का सबसे कठिन दाव लगभग पूरी तरह से सीख चुके हो। और दूसरा, उस दाव का तोड़ केवल यह है कि विरोधी तुम्हारा बॉया हाथ पकड़ ले”

लड़के की सबसे बड़ी कमज़ोरी उसकी सबसे बड़ी ताकत बन गई थी।

निष्कर्ष:

तो कैसी लगी आप लोगो यह TOP 3 Inspirational Hindi Short Stories छोटी प्रेणादायक कहानियाँ । तो जैसा की आप देख सकते है की कुछ छोटी से चीज़े मिलकर आपके माहोल को कैसे बदल सकती है और हम लोगो को एक सीख भी दे जाते है। कुछ असा हे हमारा जीवन भी होता है हमे बहुत कुछ सीखा देती है हमारी जिंदगी।

तो यह थी ये तीन हिंदी कहानियाँ आशा करती हु आपको पसंद आयी होगी ऐसी हे मजेदार हिंदी कविताएँ और हिंदी Stories पढ़ने के लिए हमारे Newsletter को Subscribe करे। मेरी कविताएं पढ़ने क लिए आपका बहोत बहोत धन्यवाद।

4 thoughts on “TOP 3 Inspirational stories in Hindi for Students”

Leave a Comment