Thanks Giving to my Readers | Thankyou Message

Thanks Giving in Hindi | Thankyou Message

इंट्रोडक्शन:

तो दोस्तों कैसे है आप सब उम्मीद है की ठीक ही होगा। आज हम आपको Thanks Giving in Hindi | Thankyou Message में अपने दोस्तों के लिए बोहोत आभारी हूँ। अगर सच खाऊ तो ये आर्टिकल बस आप लोगो को धन्यवाद  करने के लिए मैंने लिखा हैं। 

लेकिन फिर भी यह Thanks Giving आप लोगो को बहुत पसंद आएगी हमेशा की तरह मुझे पूरा विश्वास है इस बात पर। 
तो चालिए देखते हैं आज के Thanks Giving Message पर 

  

दोस्तों के नाम लिखा…

यह कविता मेरे उन सभी दोस्तों को समर्पित है जिन्होंने इस पुस्तक को लिखने में मेरी सहायता की। सब की इच्छा थी मैं दोस्ती का मतलब क्या होता है इसपर एक कविता लिखने को कहा था लेकिन सच कहूं तो दोस्ती का कोई मतलब नहीं होता क्योंकि जहां पर मतलब रहता है वहां पर दोस्ती नहीं रहता।

बैठ कर मौत के दरवाजे पर, मैंने जिंदगी का अंजाम लिखा, अपने दोस्तों को मरते वक्त भी मैंने नाम लिखा । बैठ कर भरी महफ़िल में, मैंने दोस्तों नाम सरेआम रखा, जिंदगी छूट रही थी, फिर भी सुबह वतन के नाम तो शाम यारों के नाम रखा।

बैठ कर खुदा के दरवाजे पर, मैंने चमत्कार लिखा, दुनिया से छूट रहा था नाता फिर भी, उनके दुश्मनों के लिए मैं ललकार लिखा। मेरी डूबती कश्ती देख मैंने, दोस्तों का सब एहसान लिखा, किया दिल के दो टुकड़े, एक पर दोस्त तो दूसरे पर हिंदुस्तान लिखा।
बंद होती आंखों से मैंने दोस्तों को सलाम लिखा, मेरी जिंदगी के आखिरी पन्नों पर मैं पूर्णविराम लिखा। आखिरी बार कहकर अलविदा, अगला जन्म भी यारों के साथ लिख,
खत्म हो गई मेरी कलम तो अपने खून से मैंने मेरे कफन के ऊपर यारों का बात लिखा।
पहुंचा खुदा के पास जब मैं, खुदा से मैं फरियाद लिखा, खुदा के किताब में भी मैंने सिर्फ दोस्तों का याद लिखा। अप्सराओं को छोड़, चाहने वाली शायरी में, मैंने दोस्तों का ही नाम लिखा।

भूमिका


दोस्तो, सबसे पहले मैं आप सब को बहुत धन्यवाद देना चाहूंगा कि आप सब ने मेरे ब्लॉग के कितने सरे आर्टिकल्स पढ़े और अपने विचार रखे।

तो दोस्तों आज कुछ बाते करते हैं हमारी शिक्षा प्रणाली पर दोस्तों शिक्षा प्रणाली को देख कर लगता है कि वो हमें कहीं ना कहीं गुलामी की तरफ लेकर जा रहीं हैं इससे सीधे तौर पर मालूम पडता है कि हमें रोबोट्स बनाया जा रहा है ना कि कोई इंसान।

हमे शिक्षा की जरूरत है मार्क्स की नहीं, इस विचारधारा को सदको समझना पड़ेगा। आज हमें दुनिया के कई महान लोगो के बारे में पढाया जाता है उनका में नाम लेना उचित नहीं समझता हूं।  मेरा सवाल यह है कि है उतना भगत सिंह, अशफाक उल्ला खां, चंद्रशेखर आजाद, सावित्री बाई फुले, झांसी की रानी, फातिमा शेख, डॉक्टर विक्रम साराभाई, होमी जहांगीर भाभा, आदि के बारे में क्यू नहीं पढ़ाया जाता है?,

ये तो हमे हमारी पहचान से दूर लेकर जाया जा रहा हैं? हमे हिंदुस्तानी होने का अभिमान नहीं दिया जा रहा है? आखिर हम कब-तक भरेगे अपनी पहचान से? क्या अब विदेश हमारा पहचान बनेगा?

भाषा से लेकर अपनी भेष-भूषा तक हमने अपने हिंदुस्तानी होने के पहचान का त्याग कर दिया है। आप खुद से यह सवाल कीजिए की क्या आपको अपने देश पर अभिमान है? आप इस देश के बारे में कितना कुछ जानते है?, अगर हम सवाल की बात करे तो सवाल बहुत है जिस्। किताब भी कम पड़ जाएगी।

 हमें बात करनी है तो अब बस समधान की, क्यूकि हर्म इस शिक्षा प्रणाली से उतनी उम्मीद नहीं रखनी चाहिए। मैं सभी के माता – पिता से एक गुजारिश लगा कि सबसे पहले आप अपने बच्चों को हिंदुस्तानी होने का

अभिमान दे उन्हें हमारे इतिहास के बारे में बताए, उन्हें कार दन से पहले अच्छा संस्कार दे और इस देश का एक जिम्मेदार नागरिक बनाए, उनके अंदर जब – तक इंसानियत और देशभक्ति रहेगी तब तक वो कोई भी गलत रास्ते पर नहीं जाएंगे।

आप सब सबसे पहले अपने बच्चों को वो हक दीजिए जिससे वो अपनी रुचि को देखते हुए अपना भविष्य खुद तय करें उनके ऊपर कृपया अपने सपनों का बोझ मत डालिए नहीं तो यह परंपरा कभी बद नहीं हो पाएगी।

 उन्हें पिंजरे में कैद ना कीजिए क्यूंकि उनकी सबसे बड़ी उम्मीद आप ही हो और मुझे विश्वास है कि आपसे बेहतर उनके बारे में कोई नहीं सोच सकता हैं।

 इस वेबसाइट को चलाने का हमारा मुख्य उद्देश्य यही है कि बच्चों के अंदर एक नई सोच नई ऊर्जा का संचार हो, इस वेबसाइट से हमने हर कविता से कोई न कोई संदेश देने की कोशिश की हैं और अगर एक भी बच्चा हमारी इन कविताओं से कुछ सीख पाया तो मैं समझूगा कि मेरा यह वेबसाइट चलाना सफल हो गया।

धन्यवाद, जय हिंद।


निष्कर्ष:

तो कैसी लगी आप लोगो यह Thanks Giving in Hindi | Thankyou Message। कुछ असा हे हमारा जीवन भी होता है हमे बहुत कुछ सीखा देती है हमारी जिंदगी। चालिये दोस्तों अब अगली कहानी की तैयारी करनी है।

तो यह थी ये तीन कहानियाँ आशा करती हु आपको पसंद आयी होगी ऐसी हे मजेदार कहानियाँ पढ़ने के लिए हमारे Newsletter को Subscribe करे। मेरी कहानी पढ़ने क लिए आपका बोहोत बोहोत धन्यवाद।

Leave a Comment